space-pen

अंतरिक्ष में पेन्सिल क्यों नहीं इस्तेमाल करते?

पहले रूसियों के साथ-साथ नासा ने भी अपने रिकॉर्ड को बनाए रखने के लिए अंतरिक्ष में पेंसिल का इस्तेमाल किया था। वे पेंसिल के विकल्प की तलाश कर रहे थे क्योंकि पेंसिल ने अंतरिक्ष में कई खतरों को पैदा कर दिया था यानी जीरो ग्रेविटी की स्थितिमें ,

१) पेंसिल में मौजूद ग्रेफाइट को जटिल रूप से डिज़ाइन किए गए सिस्टम के विद्युत चालन में गड़बड़ी पैदा करने का खतरा था।

२) पेंसिल में ग्रेफाइट में ग्रेफाइट कणों के कारण विस्फोट या आग लगने की प्रवृत्ति थी।

३) लकड़ी या लकड़ी के कणों के कारण आग लगने का भी खतरा था जो इन पेंसिलों में उपयोग किया जाता है।

इन अभिलेखों का परिणाम जो बनाए रखा गया था, उन्हें आसानी से हेरफेर किया जा सकता है और वे दिखने में घटिया थे, इस प्रकार, वे दिखने में धब्बा थे और स्थायी नहीं थे।

इससे पॉल फिशर द्वारा फिशर स्पेस पेन का विकास हुआ जिसने इन सभी कठिनाइयों को दूर करने में मदद की।

space-pen
1 Share
Share via
Copy link
Powered by Social Snap