अपने मन के साथ साथ अपने विचारों को भी कंट्रोल करना सीख लें

गुरु जी ने बताया कि

🌷भगवान जी सर्वत्र है,,,,,,फूलों में ख़ुस्भु की तरह , चंदा में चांदनी की तरह , सूरज में रोशनी की तरह ।

🌷हम अगर शुद्ध पवित्र होंगे तो कोई हमारा कुछ बिगाड़ नही सकता ।

🌷ये विस्वास रखें की कुछ ना बिगड़ेगा हमारा सतगुरु शरण आने के बाद , हर मुश्किल सुलझ जाएगी कदमों में झुक जाने के बाद ।

🌷हर बात में सम रहें ,,,ये भी गुजर जाएगा क्योंकि वो भी गुजर गया ।

🌷” मैं ” मैं ” करेंगे तो बकरी की तरह काट दिए जाएंगे ।

🌷चाहिए के विचार को पूर्ण विराम लगा दे ।

🌷अपने मन के साथ साथ अपने विचारों को भी कंट्रोल करना सीख लें ।

🌷मेरे पन में ही मेला पन है ।

🌷किसी भी वस्तु या व्यक्ति में हमारा वास ना हो ।

माया छोड़नी पड़े तो खुशी से छोड़ दें
माया छोड़नी पड़े तो खुशी से छोड़ दें

🌷ये ” ज्ञान ” जीवन मुक्ति का है ।

🌷शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ।

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap