dharti-ka-rash

धरती का रस

एक राजा था। एक बार वह सैर करने के लिए अपने शहर से बाहर गया।
.
लौटते समय देर हो गई तो वह किसान के खेत में विश्राम करने के लिए ठहर गया।
.
किसान की बूढ़ी मां खेत में मौजूद थी।
.
राजा को प्यास लगी तो उसने बुढ़िया से कहा… बुढ़ियामाई, प्यास लगी है, थोड़ा सा पानी दे।
.
बुढ़िया ने सोचा, एक पथिक अपने घर आया है, चिलचिलाती धूप का समय है, इसे सादा पानी क्या पिलाऊंगी !
.
यह सोचकर उसने अपने खेत में से एक गन्ना तोड़ लिया और उसे निचोड़ कर एक गिलास रस निकाल कर राजा के हाथ में दे दिया।
.
राजा गन्ने का वह मीठा और शीतल रस पीकर तृप्त हो गया।
.
उसने बुढ़िया से पूछा, माई ! राजा तुमसे इस खेत का लगान क्या लेता है ?
.
बुढ़िया बोली…. इस देश का राजा बड़ा दयालु है। बहुत थोड़ा लगान लेता है।
.
मेरे पास बीस बीघा खेत है। उसका साल में एक रुपया लेता है।
.
राजा के मन में लोभ आया। उसने सोचा बीघा के खेत का लगान एक रुपया ही क्यों हो !
.
उसने मन में तय किया कि शहर पहुंच कर इस बारे में मंत्री से सलाह करके गन्ने के खेतों का लगान बढ़ाना चाहिए।
.
यह विचार करते-करते उसकी आंख लग गई।
.
कुछ देर बाद वह उठा तो उसने बुढ़िया माई से फिर गन्ने का रस मांगा।
.
बुढ़िया ने फिर गन्ना तोड़ा और उसे निचोड़ा लेकिन इस बार बहुम कम रस निकला।
.
मुश्किल से चौथाई गिलास भरा होगा। बुढ़िया ने दूसरा गन्ना तोड़ा। इस तरह चार-पांच गन्नों को निचोड़ा, तब जाकर गिलास भरा।
.
राजा यह दृश्य देख रहा था। उसने बूढ़ी मां से कहा…बुढ़िया माई, पहली बार तो एक गन्ने से ही पूरा गिलास भर गया था,
.
इस बार वही गिलास भरने के लिए चार- पांच गन्ने तोड़ने पड़े, इसका क्या कारण है ?
.
किसान की मां बोली…. यह बात तो मेरी समझ में भी नहीं आई।
.
धरती का रस तो तब सूखा करता है जब राजा की नीयत में फर्क तथा उसके मन में लोभ आ जाता है।
.
बैठे-बैठे इतनी ही देर में ऐसा कैसे हो गया !
.
फिर हमारे राजा तो प्रजा की भलाई करने वाले, न्यायी और धरम बुद्धि वाले हैं।
.
उनके राज्य में धरती का रस कैसे सूख सकता है !
.
बुढ़िया का इतना कहना था कि राजा को चेत हो गया कि …..
.
राजा का धर्म प्रजा का पोषण करना है, शोषण करना नहीं और उसने तत्काल लगान न बढ़ाने का निर्णय कर लिया।

1 thought on “धरती का रस”

  1. Very very nice drishtant. Guruji always gives prernadayak drishtant. So lucky to have Guruji in my life.

Comments are closed.

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap
%d bloggers like this: