Guru vaani 1 Nov 2019

Guru vaani 1 Nov 2019

गुरु जी ने बताया कि

🌷रिश्तों में मान लेते है ना कि ये माता, पिता,भाई ,बहन,,,,तो जब गुरु कहते है भगवान है ये क्यों नही मानते,,,,,,?,,,,,,।

🌷एक बार एक दूध बेचने वाले ने दूध में बहुत सारा पानी मिलाया और दूध बेच दिया,एक पोटली में सारे पैसे रखे थे,ये सब एक बंदर देख रहा था,बंदर ने दूध वाले कि पोटली छिन ली ,,,

पेड़ पर बैठ गया पोटली खोलकर एक पैसा दूध वाले कि तरफ एक पैसा नदी में फेंकता गया ,

दूध वाला चिल्लाया ,बंदर बोला तुमने जितना दूध बेचा उतने पैसे मीले तुम्हे ,

जितना पानी मिलाया तुमने उतने पैसे पानी मे डाल दिये ,,तभी से कहावत हुई,दूध का दूध पानी का पानी,,,,,,,,,,।

🌷ज्ञान से अपना जीवन बनालो,,,,,,,,।

🌷कर्मो से बचने का सरल उपाय यही है कि सबमे भगवान देखें,,,,,,,,,और जो हो रहा है प्रभु की मर्जी मान ले,,,,,,,,,,,।

🌷सिर्फ राम राम बोलने से नही गुरु मिलने से बंधन कट ते है,,,,,,,,,।

🌷अकर्ता भाव के साथ साथ जीवन मे सुझागी भी जरूरी है,,,,,,,,,।

🌷हालाते तो अंत तक आएंगी ,लेकिन हम अपनी जाँच करें कि हम हालात का रूप तो नही बन रहे ना,,,,,,,,,,,।

🌷शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,,,,,।

Guru vaani 1 Nov 2019

Guru ji ne btaya ki

🌷Risto me maan jate hai na ki ye mere mata,peeta,,,,bhai,bahan,,,,,tto jab Guru kahte hai bhagwan hai ye kyu nahi mante ?

🌷Ek baar ek doodh bechne wale ne doodh me bahut sara paani milaya aur doodh bech diya,,,,ek potli me sare paise rakhe the,,,,,,ye sab ek bandar dekh raha tha,,,,,bandar ne doodh wale ki potli chhin li

ped par baith gaya potli kholkar ek paisa doodh wale ki taraf fenkta ek paisa nadi me fenkta,,,,,doodh wala chillaya ,

bandar bola tumne jitna doodh becha utne paise mile tumhe,jitna paani milaya utne paise paani me daal diye,,,,tabhi se kahawat hui doodh ka doodh,paani ka paani

🌷Gyaan se apna jeevan banalo

🌷Karmo se bachne ka saral upay yahi hai ki sabme bhagwan dekhen,,,,,aur jo ho raha hai prabhu ki marji maan le

🌷Sirf Raam ,Raam bolne se nahi Guru milne sa bandhan kat te hai

🌷Akartabhaav ke sath sath jeevan me sujhagi bhi jaruri hai

🌷Halate tto ant tak aayegi,,,,,,lekin hum apni janch karen ki hum halat ka roop tto nahi ban rahen na

🌷Shukrane satguru ji ke Hari om

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap