Guru vaani 10 may 2019

Guru vaani 10 May 2019

🌻गुरु कहते है कि मक्खन को दांत मत लगाओ,बस मुँह में रखो और निगल जाओ,मतलब ये ब्रह्मज्ञान गुरु के वचन ह।के मीले है,उनको बुद्धि और मन के दाँत मत लगाओ,बस श्रद्धा से निगल जाओ तो जीवन बन जायेगा,,,,,,,।


🌻भगवान का मतलब बताया,,,,,


भ ,,मतलब,,भूमि,,,
ग,,,मतलब ,,गगन,,,,
वा,,का मतलब बताया वायु,,,
न,,,न का मतलब बताया नीर,,,,
अ,, का मतलब बताया कि आकाश,,,,,

dada shyam bhagwan meera bhagwan


ये पांचो चीजे हमारे अंदर भी है,,
भूमि,गगन,वायु,नीर,,आकाश,,,तो भगवान बाहर नही हमारे अंदर ही है,क्यों बाहर ढूंढते है,,,,,,,।


🌻घर मे कोई हमे कुछ पैसे देते है खर्च के लिए तो हिसाब मांगते है,की पैसे कहाँ किये,तो भगवान ने ये सांसे दी है ,

उसका हिसाब भगवान मांगेंगे तो क्या जवाब देंगे,टेंशन में,क्रोध में,ईर्ष्या में ,,कहाँ गवाई साँसे,,,, अपनी साँसों की कद्र करें,,,,,।


🌻आकाश ,धरती,सूर्य,वायु,सब हमको मौन में बस देते रहते है,कभी बोलते नहीं, हम जरासा कुछ करके कितना अभिमान करते है,,,,,,,,।


🌻किसी भी बात की चिंता न करें,बस प्रभु का चिंतन करें,,,,,,,,।

डायबिटीज में क्या खाना चाहिए?


🌻अपनी विरतियो को समेटो, जो इधर उधर बिखरी है,,,,,,,,।


🌻ये जीवन है एक सपना यहां कोई नही अपना,,,,,,,,।


🌻कब तक बाहर से पेट्रोल भरते रहेंगे अब तो खुदको ज्ञान का पेट्रोल पंप बनालो,,,,,,,।


🌻शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,,,।

369 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap