paramgyan

Guru vaani 14 June 2019

🎍Agar koi hamare sabr ka imtihaan leta hai tto pareshan mat hona,,,,kyuki pariksha sach ki hi hoti hai jooth ki nahi,,,,,,,,,,

🎍Maunn hai saun,,,,,,” mai na ” mera gahna,,,,,,,,,,

🎍Deh dhare ka dand har koi bhoge,,,,,Gyaani bhoge haskar agyaani bhoge rokar,,,,,,

🎍Manushya janm mila hai Prabhu pane ke liye,,,,,,purane karm kaatne ko,,,hum naye karm banane me lag gaye,,,,,,,,,

🎍Ye Gyaan itna gahra hai lekin manusya kitna bahra hai,,,,,,,,,,

lord dada bhagwan


🎍Daan karen na karen bas udaarchit ban jayen,,,,,,,,

🎍Sant matlab jisko apna ant malum hota hai,,,,,,,,,,

🎍Apne liye jiyen tto kya jiyen tu jee ey dil jamane ke liye,,,,,,,,,,,,

🎍Vanvaas matlab one me vaas,ek me ek parmatma me aa jayen,,,,,,,,,,

🎍Jab hum apni indriyon ka daman karte hai tto sampurn shanti mil jati hai,,,,,,,,,,,

🎍Apne uljhe balon ko kitne pyar se suljhate hai,,,,,,aise hi apne mann ke vicharo ko pyar se suljhao,,,,,,,,,

🎍Shukrane Satguru ji ke Hari om,,,,,,,,,,अगर कोई हमारे सब्र का इम्तिहान लेता है तो परेशान मत होना ,,क्योंकि परीक्षा सच की होती है,,जूठ की नही,,,,,,,,,।


🎍मौन है सोन,,,,” मैं ना ” मेरा गहना,,,,,,,,।

🎍देह धरे का दंड हर कोई भोगे ज्ञानी भोगे हँसकर अज्ञानी भोगे रोकर,,,,,,,,।

🎍मनुष्य जन्म मिला है प्रभु पाने के लिए पुराने कर्म काटने को,,,,,हम नए कर्म बनाने में लग गए,,,,,,,,,।

paramgyan

🎍ये ज्ञान इतना गहरा है लेकिन मनुष्य कितना बहरा है,,,,,,,,,।

🎍दान करें ना करें बस उदारचित्त बन जाएं,,,,,,,,,,।

🎍सन्त मतलब जिसको अपना अंत मालूम होता है,,,,,,,,,।

🎍अपने लिए जियें तो क्या जियें तू जी ए दिल जमाने के लिए,,,,,,,,,।

🎍वनवास मतलब वन में वास,एक मे,,,,एक परमात्मा में आ जाएं,,,,,,,,,,।

🎍जब हम अपनी इंद्रियों का दमन करते है,,,,,तब सम्पूर्ण शांति मिल जाती है,,,,,,,,,।

🎍अपने उलझे बालों को कितने प्यार से सुलझाते है,,,,,ऐसे ही अपने मन के विचारों को प्यार से सुलझाओ,,,,,,,,,।

🎍शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,,।

104 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap