Guru vaani 15 July 2019

Guru vaani 15 July 2019

गुरु जी ने बताया कि,,,,,,,,

🌹श्रद्धा से सुने हुए वचन ऐसे होते है जैसे सिप में मोती ,,,अश्रद्धा से सुने हुए वचन मतलब गर्म तवे पर पानी की बूंद,,,,,,,,,।

🌹ज्ञान में आने के बाद गुरु मिलने के बाद जीवन मे प्रकाश हो जाता है,,,अब प्रकाश होने के बाद मन का कूड़ा

कचरा निकालना हमारा कर्तव्य बन जाता है,,,,,,,,,।

🌹मन का कचरा मतलब तेरी मेरी करना दुसरो के क्रम दरख़्त,बे वजह किसी पर भी क्रोध करना,

बे वजह द्वेष करना ये सब मन का कचरा होता है,,,,,,गुरु वचनों के पानी से ये मन का कचरा साफ करते चले,,,,,,,।

🌹गलत खाना खाने से पेट मे दर्द होता है तो डॉ, कहते है कि ताजा और शुद्ध भोजन खाओ,,

ऐसे ही गुरु कहते है कि मन को भी शुद्ध और पवित्र विचारो का भोजन खिलाएं,,,,,,,।

🌹तेज हवा ,आँधी तूफान में पहाड़ भी गिर जाते है,लेकिन घास कभी नही गिरती हल्के से झुक जाती है

फिर खड़ी हो जाती है,ऐसे ही विपरीत परिस्थिति में ज्ञानी शांत रहकर अपनी स्थिति में आनंद में रहते है,,,,,,,,,।

🌹पहले प्रभु के प्रति श्रद्धा उत्पन्न होती है फिर विस्वास जन्म लेता है,,,,,,,,।

🌹किसी के भी कर्म देखना एक और नया कर्म बनाना होता है,,,,,,,।

🌹शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,,,।

Guru vaani 15 July 2019
Guru vaani 15 July 2019

Guru vaani 15 July 2019

Guru ji ne btaya ki

🌹Sradhha se sune huye wachan aise hote hai jaise sip me

moti,,,,,,,asradhha se sune huye wachan matlab garam tave par paani ki

boond,,,,,,,,,,,

🌹Gyaan me aane ke baad Guru milne ke baad jeevan me prakash ho jata

hai,,,,,ab prakash hone ke baad mann ka kuda kachra nikalna hamara

kartavya ban jata hai,,,,,,,,,,,

🌹Mann ka kachra matlab teri meri karna dusro ke karm dekhna ,be

wajah kisi par bhi krodh karna,,,,bewajah dwesh karna ye sab mann ka

kachra hota hai,,Guru wachno ke paani se ye mann ka kachra saaf karte

chale,,,,,,,,

🌹Galat khana khane se pet me dard hone lagta hai,,,,,,tto Dr,kahte hai ki

taja aur shudh bhojan Khao,,,,,,aise hi Guru kahte hai ki mann ko bhi shudh

pavitr vicharo ka bhojan khilayen,,,,,,,,

🌹Tejj hawa ,aandhi toofan me pahad bhi gir jate hai Lekin ghaas kabhi

nahi girti halke se jhuk jati hai phir khadi ho jati hai,,,,aise hi viprit

paristhiti me ahankari gir jate hai Gyaani shan’t rahkar apni sthiti me

aanand me rahte hai,,,,,,,,,

🌹Pahle Prabhu ke prati Sradhha utpann hoti hai phir wiswas janm leta hai,,,,,,,,,

🌹Kisi ke bhi karm dekhna ek aur naya karm banana hota hai,,,,,,,,,

🌹 Shukrane Satguru ji ke Hari Om….

189 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap