vaani 2 april

Guru Vaani 2 April 2019

गुरु जी ने बताया कि,,,,,,,,
🌻जैसे खाली जमीन में बीज डालते है,,,तो बीज जल्दी अंकुरित होते है,ऐसे ही जब हो तो दुखी मत होना,ज्ञान अकेले पन में अपने मन की जमीन पर जल्दी धारण हो सकता है,,अपने खाली समय का उत्तम इस्तेमाल करें,,,,,,।


🌻किसान अपनी जमीन को खाली नही छोड़ता कुछ न कुछ उसमे ऊगा देता है वरना उसमे घास उगने लगती है,,ऐसे ही अपने मन को खाली कभी न छोड़े वरना उल्टे सीधे फालतू के विचार आ जाएंगे,,,,,ज्ञान के वचनों के बीज प्रेम का पानी डालते रहें,,,,,,,।


🌻गुरु ज्ञान से हमारा उद्धार हुआ,,हमने किसी का उद्धार किया ?,,,,,।


🌻ना अच्छा काम ना बुरा काम केवल निष्काम कर्म,,,अच्छे कर्म से अहंकार आ जाता है,,बुरे कर्म से मन दुखी हो जाता है,,,,सिर्फ निष्काम कर्म मतलब बिना इच्छा और अहंकार का कर्म,,,,,,,।


🌻फल, प्रसाद ,लड्डू,बहुत प्रसाद में बांटे और खाये, अब गुरु जी कहते है ,,ॐ सतगुरु प्रसाद,मतलब ज्ञान के वचनों का प्रसाद खाये और बांट ते रहें,,,,,,।


🌻तोहफे लेने देने का शौक है तो प्रभु प्रेम का प्रभु ज्ञान के तोहफे ले और दे,,जिस से दोनों तरफ भरपुरता आ जायेगी,,,,,,,।


🌻लिव रिच डाई पुअर,मतलब अमीरों की तरह जियें,और गरीब की तरह मरें,,मतलब जो जिंदा दिल होते है,,वो अपने धन का मन का प्रेम का इस्तेमाल करके जाते है,जो कंजुस होते है,वो सारी जिंदगी कुछ भी इस्तेमाल नही करते,और अंत मे दुसरो के लिए छोड़ जाते है,,,,,,,,,।


🌻शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,।

180 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap