Guru vaani 2 Nov 2019

Guru vaani 2 Nov 2019

गुरु जी ने बताया कि

🌹गुरु हमारे उद्धार के लिए इस संसार मे जन्म लेते है,,,,,,,,,,,।

🌹धरती अपने सीने पर कितने पेड़,बिल्डिंग ,पहाड़ो का बोझ लेकर मुस्कुराकर जीती है ,क्या हम थोड़ा सा सहकर मुस्कुरा नही सकते?,,,,,,,,,

🌹बिजली शोर करके नाच रही है ,बादल गरज कर हस रहे है,हवा फूलों की खुश्बू लेकर हस रही है,नदी अलबेले पन में लहराकर बह रही है,,,,,और एक मनुष्य है अपना उलझा मन लेकर हर समय रोता रहता है,,,,,,,,,।

🌹प्रकृति हर समय हसती रहती है,,बस मनुष्य मुस्कुराने का कंजूस है,,,,,,,,,,।

🌹कोई बीमारी होती है तो डर,दवाई के साथ साथ परहेज बताते है,ऐसे ही ज्ञान में भी अंत तक परहेज जरूरी है,,,,,,,,,।

🌹मनुष्य आज़ाद तब होता है जब व्यर्थ की बातों से आज़ाद होता है,,,,,,,,,।

🌹हर बंधन आए युक्ति से छूटो,,,,,,,,,।

🌹प्रेम सबसे एक जैसा लेकिन व्यवहार सबसे अलग,अलग, होना चाहिए,,,,,,,,,,,।

🌹शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,,,।

Guru vaani 2 Nov 2019

Guru ji ne btaya ki

🌹Guru hamare udhhar ke liye iss sansaar me janm lete hai,,,,,,,,,

🌹Dharati apne seene par kitne ped,building,pahado ka bojh lekar muskurakar jeeti hai

kya hum thoda sa kuch sahkar muskura nahi sakte ?

🌹Bijli shor karke nach rahi hai,,,,,badal garaj kar hash rahe hai,,,,,hawa phoolo ki khushbu lekar hash rahi hai,,,,,

nadi alble pan me lahrakar bah rahi hai aur ek manusya hai apna uljha mann lekar har samay rota rahta hai

🌹Prakriti har samay hasti rahti hai bas manusya muskurane ka kanjush hai

🌹Koi bimari hoti hai tto dr,dawai ke sath sath parhej batate hai aise hi Guru ji kahte hai ki Gyaan me bhi ant tak parhej jaruri hai

🌹Manusya aazad tab hota hai jab wo vyarth ki baton se aazad hota hai

🌹Har bandhan se yukti se chhuto

🌹Prem sabse ek jaisa lekin vyavhaar sabse alag,alag,hona chahiye

🌹Shukrane Satguru ji ke Hari om

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap