Guru vaani 23 Oct 2019

Guru vaani 23 Oct 2019

🌸किसी को भी किसी की भी गलती के लिए कोसना छोड़ो ,और कोशी नदी में नहाकर शीतल होकर व्यर्थ की बातों से दूर रहो।

🌸पंछी एक एक तिनका जोड़कर घोंसला बनाता है ,वो घोंसला अगर बन्दर के हाथ लग जाये तो तहस नहस कर देगा, ऐसे ही हमारा जीवन भी गुरु एक एक वचन जीवन मे लगाकर जीवन सुंदर बनाते है

फिर अगर ये जीवन हम माया में गवाएं तो गुरु को कितना दुख होगा ।

🌸हमारे घर अगर कोई आता है चाहे वो हमें पसंद हो या पसंद ना हो हम उनका सत्कार जरूर करते है,,ऐसे ही जीवन मे जो भी आएं उसे स्वीकारते चले।

🌸शुक्राने मान ने का मतलब ये नही की सिर्फ मुहँ से शुक्राने बोलना,

शुकराना का मतलब यह है कि जो भी कार्य या सेवा मिले प्रेम सहित नम्रता से करते चले,सबमे भगवान देखें।

🌸छुरी नही होगी तो सब्जी कैसे कटेगी,कैंची नही होगी तो कपड़ा कैसे कटेगा

ऐसे ही माया वाले भी हमारी परीक्षा नही लेंगे तो हमारी उन्नति कैसे होगी,,,,,,,।

🌸हम अपमान से नही बच सकते लेकिन अपमानित होने से बच सकते है,,,,,

सबमे भगवान का रूप देखकर,,,,,,,,,।

🌸विपरीत परिस्थिति में अपनी चेकिंग करें कि मेरी स्थिति कैसी रही।

🌸शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,,,।

Guru ji ne bataya ki

🌸Kisiko bhi kisi ki bhi galti ke liye kosna chhodo,,aur koshi nadi me nahakar sheetal hokar vyarth ki baton se durr raho

🌸Panchhi ek ek tinka jodkar ghosla banata hai wo ghosla agar bandar ke hath lag jaye tto tahas ,nahas,kar dega

aise hi hamara jeevan bhi Guru ek, ek, wachan jeevan me lagakar jeevan sundar banate hai

phir agar ye jeevan hum maya me gawayen tto Guru ko kitna dukh hoga

🌸Hamare ghar agar koi aata hai chahe wo hume pasand ho ya pasand na

ho hum unka satkaar jarur karte hai, aise hi jeevan me jo bhi aayen usse

sweekarte chale

🌸Shukrane maan ne ka ye matlab nahi ki sirf muh se Shukrana

bolna, Shukrana ka matlab yah hai ki jo bhi karya ya seva mile prem

sahit namrta se karte chale,sabme bhagwan dekhen

🌸Chhuri nahi hogi tto sabji kaise kategi,,,,kenchi nahi hogi tto kapda kaise

katega, aise hi maya wale bhi hamari pariksha nahi lenge tto unnati kaise

hogi

🌸Hum apmaan se nahi bach sakte lekin apmanit hone se bach sakte

hai, sabme bhagwan ka roop dekhkar

🌸Viprit paristhiti me apni checking karen ki meri sthiti kaisi rahi

🌸Shukrane Satguru ji ke Hari om

274 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap