Guru vaani 25 April 2019

Guru vaani 25 April 2019

गुरू जी ने बताया कि,,,,,,,,
🍃प्रभु से ” नाराज” तब तक रहते है जब तक प्रभु का ” राज” नही जानते,,,कौनसा राज,,,,यही की

सब प्रभु की मरजी से हो रहा है,,,,,,,,,।


🍃आज तक बड़े बड़े दान किये अब एक दान और करले,,,,”अपनी मैं ” का दान,,,,,,मतलब प्रभु

मैं कुछ नही करता प्रभु सब तू ही तू करता है,,,,,,,,

Hindi Story – संतरे बेचती बूढ़ी औरत


🍃जैसे गीले कपड़े को आग जला नही सकती,, ऐसे ही जो गुरु के शुक्रानो भीगे रहते है,,,, उनको माया की आग जला नही सकती,,,,,,।


🍃मान के साथ अपमान ,,,राग के साथ द्वेष ,,निंदा के साथ प्रसंशा ,,,,,जुड़ी है,,,,लेकिन आनंद का

कोई जोड़ नही वो खुद में ही सक्षम है,,,,गुरु हमे सबसे ऊपर निज आनंद में टिकाते है,,,,,,,,।


🍃जैसे बच्चा आग,या चाकू पकड़ने की जिद करता है,तो माँ उसका माइंड डाइवर्ट करती है,,,

खेल में,ऐसे ही मन भी अगर गलत दिशा में जाएं तो उसे प्रभु राह में मोड़ लो,,,,,,।


🍃मधुमक्खी शहद किनारे रहकर खाती है,तभी आनंद में रहती है,ऐसे ही गुरु कहते है कि माया में

इतने मत खो जाओ,की दुखी होना पड़े,किनारे रहकर मस्त रहें,,,,,,,।


🍃हर बात अपने समय से होती है हम बस अपना कर्म धर्म सहित करते चले,,,,,,,,,।


🍃शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,।

Guru ji Bhajans –

367 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap