vaani 26 march

Guru vaani 26 March 2019

गुरु जी ने बताया कि,,,,,,,,
🌾जैसे साँप के डंख से बचते है ना ऐसे ही ,,माया के दो दांतो से बचे,,,,,
1,,,,इच्छा,,,और
2,,,,अहंकार,,,,,,


🌾ज्ञान हर बात में एडजस्ट करना सिखाता है,,,,,,,।
🌾जैसे रेगिस्तान में पानी की जरूरत है,,महेसुस होती है,,,,,ऐसे ही जीवन मे ज्ञान की जरूरत होती है,,,,,,।


🌾प्रभु से ये दावा करें कि प्रभु तू मेरा,,,और प्रभु से ये वादा करें कि प्रभु मैं तेरा,,,,,,,।
🌾साधु ध्यान से राम राम बोलते है,,,,संसारी डर से राम राम बोलते है,,,,की कहीं कुछ गलत ना हो जाएं,,,,,,।


🌾खीरा अपनी गर्दन कटवाता है तभी मीठा होकर खाने में आता है,,,, ऐसे ही अपने अहंकार को मिटायेंगे तभी सबके प्यारे बन पाएंगे,,,,,,,,।


🌾कम बोलो फालतू मत बोलों पहले सोचो विचारों फिर बोलो जीभ 32 दांतो के बीच मे जैसे सुरक्षित होती है,,ऐसे ही कोई भी शब्द 32 नही तो कम से कम 2 बार तो सोच विचार कर बोले,,,,,,,।


🌾बाल्टी में कितना भी पानी हो उसमे हाथ डाले फिर निकालेंगे तो पानी मे कोई फर्क थोड़ी पड़ता है,जैसे था वैसे ही रह जाता है,,,,ऐसे ही हम संसार मे रहें या न रहें,,संसार चलता ही रहेगा निश्चिन्त रहें,,,,,,,,,।


🌾बाहर से भले संसार मे रहें अंदर से सिर्फ प्रभु से अटैच्ड मतलब जुड़े रहें,,,,,,,।
🌾शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,।

Dada Bhagwan Notes

English version

Guru ji ne btaya ki,,,,,,,,,,
🌾Jaise Sanp ke dankh se bachte hai na aise hi,,,,maya ke do danto se bacho,,,,,,
1,,,,Ichha,,,,,aur
2,,,,Ahankaar,,,,,,


🌾Gyaan har baat me adjust karna sikhata hai,,,,,,,,
🌾Jaise Registan me paani ki jarurat hai,,,,,mahesus hoti hai aise hi jeevan Gyaan ki jarurat hoti hai,,,,,,,,,


🌾Prabhu se ye dawaa Karen ki prabhu tu mera,,,,,,aur Prabhu se ye wadaa Karen ki prabhu me tera,,,,,,,,


🌾Sadhu dhyaan se Raam Raam bolte hai,,,,,Sansari dar se Raam Raam bolte hai ki kahin kuch galat na ho jayen,,,,,,,,


🌾Kheera apni gardan katwata hai tabhi meetha hokar khane me aata hai,,,,,aise hi apne ahankaar ko meetayenge tabhi sabke pyare ban payenge,,,,,,,,,,


🌾Kum bolo faltu mat bolo pahle socho vicharo phir bolo,,,,,jeebh 32 dant ke bich me jaise surakshit hoti hai aise hi koi bhi shabd 32 nahi tto kum se kum 2 baar tto soch vicharkar bole,,,,,,,,,


🌾Balti me kitna bhi paani ho usme hath dale phir nikalenge tto paani me koi fark thodi padta hai jaisa tha vaisa hi ho jata hai aise hi hum Sansaar me rahen ya na rahen Sansaar chalta hi rahega nischint rahen,,,,,,


🌾Bahar se bhale Sansaar me rahen andar se sirf prabhu se attach rahen,,,,,,,,,


🌾 Shukrane Satguru ji ke Hari Om……

159 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap