Guru vaani 27 April 2019

Guru vaani 27 April 2019

🌵कोई भी गलत बात मुख से न निकाले,, अगर भगवान ने तथास्तु बोल दिया तो मुश्किल हो जाएगा,,,हमेंशा अच्छा बोले,अच्छा सोचे,,,,,,,,।

🌵बूंद अगर अकेली रहेगी तो सुख जाएगी,सागर में मिल जाएगी तो अमर हो जाएगी,,,ऐसे ही हम

भी माया में अकेले रहेंगे तो खो जाएंगे,,,,खुद को प्रभु में समर्पित कर देंगे तो भटकेंगे नही,,,,बच जाएंगे,,,,,,,,।

guru ji pramila bhagwan

🌵कच्चे चनों में अंकुरण हो सकता है,,,भुने चनों में कभी अंकुरण नही होगा,,,ऐसे ही जो गुरु ज्ञान में रहता है,माया उसे कभी परेशान नही कर सकती,,,,,,,,।

🌵पूछा कि विकार कैसे जाएं,तो बताया कि आत्म निष्ठा से जाएंगे,आत्म निष्ठा कैसे होगी तो

बताया,की गुरु ज्ञान से,नित्य के अभ्यास से आत्म निष्ठा होगी,,,,,,

🌵द्वेत की भक्ति मतलब भगवान अलग मैं अलग,,ये मत करो,अद्वेत मतलब सर्वत्र प्रभु का ही दर्शन हो,ऎसी भक्ति करें,,,,,,,

🌵जमादार सुबह सफाई करता है तो बोलता है कि एक बाजू हो जाओ,एक बाजू हो जाओ,,,वरना

धूल उड़ेगी,ऎसे ही गुरु जी कहते है कि या तो माया के या तो प्रभु के एक बाजू हो जाओ,,,,,,,,।


🌵अपने मन को खूँटी मत बनाना,,की कोई भी आएं और सामान टंगा कर चला जाये,,,,,,।


🌵गिरी हुई कोई चीज नही खाते फिर गिरी हुई बातें क्यों करते हो,,,,?,,,,,।


🌵शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,।

Hindi Stories – click here

181 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap