Guru vaani 3 June 2019

Guru vaani 3 June 2019

गुरु जी ने बताया कि,,,,,,,,,

🌷माया से मन बचकर प्रभु में लग जाये तो समझो कि ज्ञान जीवन मे लग गया,,,,,ज्ञान मतलब जीवन जीने की सही समझ,,,,,,,,,,,,,।

🌷स्मरण ज्ञान है तो विस्मरण भी ज्ञान है,,,,,,,,,,।

🌷या इतने छोटे बन जाये कि सब बड़े लगे,या इतने बड़े बन जाएं कि सर्वत्र भगवान ही दिखे,,,,,,,,,।

🌷गुरु हमे कर्मो से बचाते है जैसे अज्ञानता में,,,,,,,

🌷कुत्तों की तरह सारा दिन व्यर्थ बोलते थे,,,,,,,,

🌷गधे की तरह बेवजह का बोझा उठाते थे,,,,,,,

🌷बिल्ली की तरह नूस नूस करते थे,,,,,,,

🌷छिपकली की तरह सबकी बातें कान लगाकर सुनते थे,,,,,,,,

🌷गुरु ने ये सारी जानवरो वाली आदते छुड़वा ली,,,,,,,,,।

🌷फल कच्चा ही डाली से टूट जाएगा तो मीठा नही हो सकता,डाली से जुड़ा होगा तो रसीला होगा,,ऐसे ही हम भी संसार मे जुड़े रहेंगे तो मीठे रहेंगे,,,,,,,,,,,।

🌷संसार से भागकर नही जागकर वैराग्य आ सकता है,,,,,,,,,,।

🌷गुलाब जामुन की एक बूंद गिरे तो हजारों चींटिया आ जाती है,,,,,,,,तो क्या हमारे अंदर गुरु के वचनों की मीठास है तो कोई खिंचा नही आ सकता ?,,,,,,,,,।

🌷शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,,,,,।

255 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap