Guru vaani 6 Nov 2019

Guru vaani 6 Nov 2019

गुरु जी ने बताया कि

🎍कभी भी अपने प्रभु से नाराज मत होना,सबसे बड़ा न्याय यही है कि प्रभु ने हमे हूबहू अपने जैसा बनाया है ।

🎍दो सुख बताएं

🎍प्रारब्ध सुख,,,, मतलब दुसरो पर आधारित सुख,,,,,,,,,।

🎍स्वाधीन सुख ,,,स्वयंम की शांति पर आधारित सुख,,,,,,,।

🎍जब भी किसी से सुख चाहेंगे तो वो पराधीन वाला,जो स्वप्न वत होता है,,,,,,,,,,।

🎍जब स्वयंम में टिके होंगे वो स्थिर सुख होता है,,,,,,,,।

🎍ब्रह्मज्ञानी स्वाधीनता वाले सुख में विस्वास रखता है,,,,,,,,,।

🎍जैसे केले की पात , पात में पात,ऐसे ही गुरु की बात बात में कोई बात,छुपी होती है,,,,,,,,,।

🎍सोचते है संसार मे सुख है,,होता है पर सब पलभर का,,जैसे प्याज को खोलते जाओ,,खोलते जाओ,,,,कुछ नही निकलता आइए ही संसार का सुख भी ऐसा ही होता है,,,दिखता है लेकिन होता नही,,,,,,,,।

🎍शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,,,,।

Guru vaani 6 Nov 2019

Guru ji ne btaya ki

🎍Kabhi bhi apne Prabhu se naraj mat hona,,sabse bada nyay yahi hai ki Prabhu ne hume hubahu apne jaisa bnaya hai,,,,,,,,,,,,

🎍Do sukh batayen,,,,,,,,

🎍Paradhin sukh,,,,,,matlab dusro par aadharit sukh,,,,,,

🎍Swadhin Sukh,,,,,swayam ki shanti par aadharit sukh,,,,,,,,,

🎍Jab bhi Kisi se Sukh chahenge tto wo Paradhin wala,jo swapn wat hota hai

🎍Jab Swayam me tike honge wo sthir Sukh hota hai,,,,,,,,,,

🎍Brahmgyaani swadhinta wale sukh me wiswas rakhta hai,,,,,,,,,,,

🎍Jaise kele ki paat paat me paat,,,,,aise hi Guru ki baat ,baat me koi baat chhupi hoti hai,,,,,,,,,

🎍Sochte hai Sansaar me sukh hai,,,,,hota hai par sab palbhar ka,,,,jaise pyaj ko kholte jao,,,kholte jao,,,,kuch nahi nikalta aise hi Sansaar ka sukh bhi aisa hi hota hai,dikhta hai lekin hota nahi,,,,,,,

🎍Shukrane Satguru ji ke Hari om,

412 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap