Guru vaani 6 Sept 2019

Guru vaani 6 Sept 2019

🌻मन से यही दुआ निकलनी चाहिए कि प्रभु सबको मिले तेरी बकसीसे, सबको मीले तेरी रहमते, दादा ना कोई उदास हो,हर चहरे पर हँसी हो हर चहरे पर खुशी हो,,,,,,,,।

🌻देह से हटकर आत्मा में आ जाओ,अपने परम पद को महेसुस करें,,,,,,,,,,,।

🌻ना वस्तु से ना व्यक्ति से ममता रखें,ये मेरा,वो मेरा छोड़ दो,,,,,,,,,,।

🌻संसार मे हम जिस से परेशान होते है,गुरु उस से हमे बचाता है,आत्मा की राह दिखाकर,,,,,,,,,।

Guru vaani 20 June 2019

🌻ब्रह्मज्ञानी बहुत ही दयालु और नम्र होते है,सबकी भलाई के लिए खुदको कस्ट भी देते है,,,,जैसे दधीजी ने इंद्र देव के लिए अपनी गर्दन भी कटवाई,अपनी हड्डियों से अस्त्र भी बना दिये,,,,,,,,,,।

🌻वी वेक ,,,,मतलब सही समझ,,,,,,,,,,,।

🌻संत, अतिसय सहन करते है,,,,,संत वो होते है जो अपना अंत जानते है,,,,,,,,,,।

🌻बुद्ध भगवान से किसी ने पूछा अपने सारा ज्ञान प्राप्त कर लिया ?, भगवान ने एक मूठी सूखे पत्ते की उठाकर बोले बस अभी तक इतना ही पाया है,,,,,,ज्ञान पाना बाकी है,,,,,,,,,,।

🌻शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,,,।

309 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap