Guru vaani 9 May 2019

Guru vaani 9 May 2019

गुरु जी ने बताया कि,,,,,,,
🌺संसार के प्यार में स्वार्थ छुपा है,और प्रभु की नाराजगी में भी प्रेम छुपा होता है,,,,,,।


🌺संसार मे जो भी तक़लीफ़ होती है अज्ञान की वजह से होती है,गुरु ज्ञान से हम अपना जीवन सरल बना सकते है,,,,,,।


🌺व्यर्थ बोलना अज्ञानता की निशानी है,,,,,,,,।

Bhajan puspanjali


🌺ब्रह्मचर्य मतलब ब्रह्म का आचरण करना,,,,,,।


🌺किसी के चरण भले मत छूना बस अपना आचरण शुध्द रखना,,,,,,,।


🌺क़ाबिल मालिक बन ने के लिए पहले क़ाबिल नौकर बन ना पड़ता है,,,,,।


🌺दुख एक उत्तम मव उत्तम वस्तु है जो हमारी आंखें खोलता है,,,,,,,।

guru vaani 9 may


🌺त्याग के अहंकार का भी त्याग कर दे,की मैने त्याग किया,,,,,,,।


🌺हमारा मन है पोस्ट मेन अलग अलग तरह की चिट्ठियां लाता है,ये हमारे ऊपर है कि हम कौनसी चिट्ठी पढ़नी है ,कौनसी चिट्ठी नही पढ़नी है ,,,,,,,,,,,,।


🌺शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ ,,,,,,,,,,,,,।

🙏 गुरू महाराज जी ने कहा की अगर कोई आपकी बुराई करे तो उसे कुछ मत कहो कोई आपको दुःख दे तो भी उसकी निंदा ना करो वो जो कर रहा है उसे करने दो चाहे वह आपका कुछ भी क्यों ना बिगाड़ रहा हो परन्तु उसके प्रति अपने व्यवहार में परिवर्तन ना लाओ उसे कुछ मत कहो आप साधक हो आपने गुरू के दिये नाम का कवच पहन रखा है सामने वाले के बाणों का आप पर असर नही होना चाइए अगर आपका कोई अजीज ही आपको दुःख दे रहा है दुर्व्यवहार कर रहा है तो उससे दुखी मत हो उसके लिए प्रार्थना करो उसपर गुस्सा निकलने की बजाय उसकी शिकायत मुझसे करो मैं सुन लेता हूँ मैं अनसुना नही करता अगर आप चाहते हो की उसमे परिवर्तन आये तो उसे बोलने से अच्छा है की आप मुझे बताओ मैं जरूर सुनूंगा और उसमे बदलाव भी लाऊंगा ।🙏

252 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap