जो भी बोले सोच समझकर बोले

Divine Dada vaani

🍁दूसरे के धर्म मे मत जाओ, मतलब ये हमारा शरीर भी तो दूसरा है,,

इसके धर्म मे नही जाना है ,,मतलब खुद को आत्मा मानेंगे तो देह से उपराम हो पाएंगे,,,,,,,,,,,।

🍁पेसन्स नही रखेंगे तो पेशेंट बन जाएंगे ,, मतलब धीरज नही रखेंगे तो मरीज बन जाएंगे,,,,,,,,,,,।

🍁जब एक दूसरे के विचारों में भेद होता है तभी झगड़ा होता है,,,,,,,,,,।

🍁जैसे 100 गायों के बीच मे बछड़ा अपनी माँ को पहचान लेता है,,,

ऐसे ही गुरु जी कहते है,,,,,की हमारे कर्म भी हमें पहचान लेते है,,,,,,,,,,।

🍁जैसे संसार की चीजों के आदि होते है, जैसे खाने , पीने, घूमने, के आदि है

ऐसे ही सत्संग के भी तो आदि हो जाएं,,,,,,,,,,।

🍁परमात्मा ने हाथ दो, कान दो, पैर दो, आँख दो, मुहं सिर्फ एक दिया है,,,,,

इस लिए जो भी बोले सोच समझकर बोले,,,,,,,,,,।

🍁शरीर अपने कर्म का खुद ही भुगतान भरता है,,,,,,,,,,।

🍁शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ,,,,,,,,,,,।

divine dada bhagwan vaani
divine dada bhagwan vaani

Divine Dada bhagwan vaani

कृष्ण खुद भगवान है ..फिर भी मक्खन चुराते हैं..तो गुरु जी ने बताया..

Tvकि tb भगव़ान को क्या जरुरत है मक्खन चुराने की..वो तो हमें ये संदेश देना चाहते हैं..कि ये शरीर एक मटका है..शरीर रुपी मटके के अंदर मक्खन रुपी आत्म ज्ञान प्रकट करना है..इसलिअ ये लीला करी भगवान ने.

संसार के विषयों को विष की तरह जानकर छोड़ दो..

ज्ञान रुपी मक्खन है वैराग्य रुपी नींव में..वैराग्य रुपी नींव पक्की होगी तो ज्ञान टिकता है..

गुरु माया के विचारों से वैराग्य दिलाते हैं..संसार का सुख हाथ में रेत के समान है..

सारे तालों की चाबी अगर खो जाए तो वो मास्टर चाबी से खुलता है.

ऐसे ही दुनियां में कोई भी मुसीबत परेशानी समस्या है वो प्रेम रुपी चाबी से हल हो जाएगी..

84% कर्म आँखों से बनते हैं .इसका मतलब ये नहीं की आँखें बंद करके चलना है.

बस किसी की गलती देखते हुए अनदेखा करना है..सबमें भगवान देखना है..इससे नये कर्म नहीं बनेगें..

बच्चे अगर बाहर खेलने की जिद करते हैं..तो माँ कुंड़ी लगाकर कहती है धर के अंदर भी बहुत खिलौने हैं..इच्छा खाना दुँगी..

ऐसे ही गुरु जी कहते हैं कि हम भी अपने दिमाग में विचारों की कुंड़ी लगा कर..अपने भीतर आत्म खजाने की खोजना करे..तभी कहा तु भीतर जा..तभी तु तर भी जाएगा..

किसी एक से भी द्वैष रखोगे तो अगला जन्म उसके साथ लेना पड़ेगा..

सोचो जिसके साथ एक पल नहीं बनती उसके साथ पुरा दुसरा जन्म..इसका एक ही सरल उपा़य है बस भगवान देखना शुरु करो.. सबमे भगवान देखो..ना राग ना द्वैष..सिर्फ सम भाव..

🌻शुक्रराना गुरु का..हरी ॐ🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹

253 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap