पतंग हमारा जीवन है डोर गुरु के हाथ है

गुरु जी ने बताया कि

🌹प्रसंसा अच्छी लग रही है निंदा में बुरा लग रहा है इसका मतलब खुद को कुछ मान रहे हो,,,,,,जब तक आत्म निश्चय पक्का नही होगा तब तक अच्छा बुरा लगता रहेगा ।

🌹दो सम्पदा बताई

  • 🌹आसुरी सम्पदा ,,जैसे अखबार ,,सुबह सुबह आसुरी खबरे पढ़ते हो ,वो लक्षण हमारे अंदर भी आ जाते है,,,,,,,,।
  • 🌹दूसरी बताई दैवीय सम्पदा ,,,जैसे शास्त्र ,,शास्त्र पढ़ेंगे तो दैवीय शक्ति हमारे अंदर आ जायेगी ।

🌹पतंग हमारा जीवन है डोर गुरु के हाथ है ।

🌹देह है चेला गुरु है आत्मा,,,देह से आत्मा में स्थित होना है ।

🌹बिना इच्छा रखें माँस भी खा रहे है,वो ” पाप ” नही होता ,और इच्छा रखकर साग भी खा रहें है वो ” पाप ” होता है ।

🌹कर्म तो कर रहें है लेकिन कभी सोचा है किस भाव से कर्म कर रहें हम
फल के लिए ? कामना के लिए ? धर्म के लिए या किसी के उद्धार के लिए हमारा पुरुषार्थ किस कर्म के लिए है सोचो ?

🌹शुक्राने सतगुरु जी के हरि ॐ।

Guru ji ne btaya ki

🌹Prasansa achhi lag rahi hai ninda me bura kag raha hai iska matlab khud ko kuch maan rahe ho ,,,

jab tak aatm nischay pakka nahi hoga tab tak achha bura lagta rahega

🌹Do sampada batai

  • 🌹Aasuri sampada,,jaise akhbaar,,,subah subah aasuri khabare padhte ho,wo lakshan hamare andar bhi aa jate hai
  • 🌹Dusri batai Deviy sampada,,,,,,jaise Shastr ,,Shastr padhenge tto deviy shakti hamare andar aa jayegi

🌹Patang hamara jeevan hai dor Guru ke hath hai

🌹Dehh hai chela Guru hai aatma,,,,,,,,dehh se aatma me sthit hona hai

play_circle_filled
pause_circle_filled
Aap ko aasu dia
save_alt
volume_down
volume_up
volume_off

🌹Bina ichha rakhen mans bhi kha rahe hai wo ” Paap ” nahi hota,aur ichha rakhkar saag bhi kha rahe hai tto bhi ” Paap ” hota hai

🌹Karm tto kar rahe hai lekin kabhi socha hai ki kis bhaav se karm kar rahe hum,,,,
Fal ke liye,? Kamna ke liye ” dharm ke liye ya kisi ke udhhar ke liye,,,,,Hamara purusharth kis karm ke liye hai socho,?

🌹Shukrane Satguru ji ke Hari om

290 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap